Bekrari Si-Kumar Vishwas


बेक़रारी सी बेक़रारी है ,
वस्ल हैं और फिराक तारी है
जो गुज़ारी न जा सकी हम से
हम ने वो ज़िन्दगी गुज़ारी है
बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मेरी नीँद भी तुम्हारी है ?
उस से कहियो की दिल की गालियों में
रात-दिन तेरी इंतजारी है……………………….

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *