Tumhare Khafa Ho Jaane Ka Dar Hi To Hai


Na tapke Jab Tak Jism Se Ye Lahoo,
Kaise Main Kahun Ki Ye Lal Hi To Hai,

Labo Se Na Nikale Jab Tak Haal-E-Dil Ye Mera,
Kaise Tum Samjhogi Mera Haal Ye Hi To Hai,

Jab Tak Na Jhade Shakon Se Patte,
Kaise Main Kahun Ye Patjhad Hi To Hai,

Bikhri Padi Hain Chahte Khatir Tumhare,
Kaise Tumhe Samjhaun Ye Pyaar Hi To Hai,

Tum To Muskra Deti Ho Dekh Ke Mujhe Hardum,
Samjhti Ho Ye Khilona Hi To Hai,

Magar Kaise Main Samjhaun Tumhe Ye Khilona,
Tumahri Chahat Ka Diwana Hi To Hai,

Aag To Laga De Aaftab Bhi Is Duniya Mein,
Magar Use Bhi Barsaat Ka Dar Hi To Hai,

Bata Na Sake Aajtak Tumhe Haal E Dil Apna,
Shayad Tumhare Khafa Ho Jane Ka Dar Hi To Hai.

 

In Hindi Font

 

नाटपके जब तक जिस्म से ये लहू,

कैसे मैं कहूँ की ये लाल ही तो है,

लबो से न निकले जब तक हाल-इ-दिल ये मेरा,

कैसे तुम समझोगी मेरा हाल ये ही तो है,

जब तक न झड़े शाखों से पत्ते,

कैसे मैं कहूँ ये पतझड़ ही तो है,

बिखरी पड़ी हैं चाहते खातिर तुम्हारे,

कैसे तुम्हे समझों ये प्यार ही तो है,

तुम तो मुस्करा देती हो देख के मुझे हर दम,

समझती हो ये खिलौना ही तो है,

मगर कैसे मैं समझूँ तुम्हे ये खिलौना,

तुम्हरी चाहत का दीवाना ही तो है,

आग तो लगा दे आफ़ताब भी इस दुनिया में,

मगर उसे भी बरसात का दर ही तो है,

बता न सके आजतक तुम्हे हाल इ दिल अपना,

शायद तुम्हारे खफा हो जाने का डर ही तो है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *