Jeewan Mein Jab Tum The Nahin – Kumar Vishwas


“जीवन में जब तुम थे नहीं, पल भर नहीं उल्लास था
खुद से बहुत मैं दूर था, बेशक ज़माना पास था।
होठों पे मरुथल और दिल में एक मीठी झील थी,
आँखों में आँसू से सजी, इक दर्द की कन्दील थी।
लेकिन मिलोगे तुम मुझे
मुझको अटल विश्वास था
खुद से बहुत मैं दूर था, बेशक ज़माना पास था।
तुम मिले जैसे कुँवारी कामना को वर मिला।
चाँद की आवारगी को पूनमी-अम्बर मिला।
तन की तपन में जल गया
जो दर्द का इतिहास था।
खुद से बहुत मैं दूर था, बेशक ज़माना पास था…”

Jeevan mein jab tum the nahin, pal bhar nahin ullaas tha,
Khud se bahut main door tha, beshaq jamaana pass tha
Hothon pe maruthal aur dil mein ek mithi jheeel thi
Aankhon mein aanson se saji, ek dard ke kandeel the
lekin milo ge tum mujhe
mujhko atal vishwas tha
Khud se bahut door tha, beshaq jamaana paas tha
Tum mile jaise kunwari kaamna ko varr mila
Chaand ke aawargi ko poonm-ambar mila
Tan ke tapan mein jal gaya
Jo dard ka itihaas tha
khud se bahut main door tha, beshaq jamaana paas tha

– Kumar Vishwas

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *