Category Archives: Deshbhakti Shayari

Hum Ladenge Saathi -Avtar Singh Paash

Published by:


हम लड़ेंगे साथी, उदास मौसम के लिये
हम लड़ेंगे साथी, गुलाम इच्छाओं के लिये…….
हम चुनेंगे साथी, जिंदगी के टुकड़े
हथौड़ा अब भी चलता है, उदास निहाई पर
हल अब भी चलता हैं चीखती धरती पर
यह काम हमारा नहीं बनता है, प्रश्न नाचता है
प्रश्न के कंधों पर चढ़कर
हम लड़ेंगे साथी……………..
कत्ल हुए जज्बों की कसम खाकर
बुझी हुई नजरों की कसम खाकर
हाथों पर पड़े घट्टों की कसम खाकर
हम लड़ेंगे साथी…………………………….
हम लड़ेंगे तब तक
जब तक वीरू बकरिहा
बकरियों का मूत पीता है
खिले हुए सरसों के फूल को
जब तक बोने वाले खुद नहीं सूंघते
कि सूजी आंखों वाली
गांव की अध्यापिका का पति जब तक
युद्ध से लौट नहीं आता………………………
जब तक पुलिस के सिपाही
अपने भाईयों का गला घोटने को मजबूर हैं
कि दफतरों के बाबू
जब तक लिखते हैं लहू से अक्षर…………….
हम लड़ेंगे जब तक
दुनिया में लड़ने की जरुरत बाकी है
जब तक बंदूक न हुई, तब तक तलवार होगी
जब तलवार न हुई, लड़ने की लगन होगी
लड़ने का ढंग न हुआ, लड़ने की जरूरत होगी……………………
और हम लड़ेंगे साथी
हम लड़ेंगे
कि लड़े बगैर कुछ नहीं मिलता
हम लड़ेंगे
कि अब तक लड़े क्यों नहीं
हम लड़ेंगे
अपनी सजा कबूलने के लिए
लड़ते हुए जो मर गए
उनकी याद जिंदा रखने के लिए
हम लड़ेंगे……………………………………………..

+175
-1
  

Ho Gayi Hai Peer Parbat Si-Dushyant Kumar

Published by:

Ho gayi hai peer parvat si pighalni chaahiye
Is Himalay se koi Ganga nikalni chaahiye

Aaj ye deewaar pardo ki tarah hilne lagi
Shart lekin thi ke ye buniyaad hilni chaahiye

Har sadak par har gali mein har nagar har gaanv mein
Haath lahraate huye har laash chalni chaahiye

Sirf hungaama khada karna mera maksad nahi
Saari koshish hai ke ye soorat badalni chaahiye

Mere seene mein nahi to tere seene mein sahi
Ho kahin bhi aag lekin aag jalni chaahiye

+170
-5
  

Shohrat Na Ata Karna Maula-Kumar Vishwas

Published by:

Shohrat Na Ata Karna Maula
Daulat Na Ata Karna Maula
Bas Itna Ata Karna Chahe Jannat Na Ata Karna Maula
Shamma e watan Ki Lau Par Jab Qurbaan Patanga Ho
Hothon Par Ganga Ho, Hathon Mein Tiranga Ho

Bas Ek Saza Hi Sune Sada
Barfeeli Mast Hawaon Mein
Bas Ek Dua Hi Uthe Sada
Jalte Tapte Sehraon Mein
Jeete Jee Iska Maan Rakhen
Mar kar Maryaada Yaad Rahe
Hum Rahen Kabhi Na Rahen Magar
Iski Saj Dhaj Aabaad Rahe
Godhra Na Ho Gujrat Na Ho
Insaan Na Nanga Ho
Hothon Par Ganga Ho, Hathon Mein Tiranga Ho
Shohrat Na Ata Karna Maula
Daulat Na Ata Karna Maula
Bas Itna Ata Karna Chahe Jannat Na Ata Karna Maula
Shamma e watan Ki Lau Par Jab Qurbaan Patanga Ho
Hothon Par Ganga Ho, Hathon Mein Tiranga Ho

+681
-331